उप्र : सिद्धार्थनगर : AIMIM President ओवैसी फ़रवरी में होंगे लोगों बीचे, कोई भी मिल सकता है बात करसकता है

 इस तरह के अंदाज़ होसकेंगे मिलने का
                           इस तरह के अंदाज़ होसकेंगे मिलने का

उप्र : सिद्धार्थनगर ( सा.भा.डेस्क ) आने वाले फरवरी मंथ में उत्तरप्रदेश के सिद्धार्थनगर या यूँ कहें पर्वी उत्तरप्रदेश में आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मसुलीमीन के सरबराह व सासंद असदुद्दीन ओवैसी आम इंसानो की तरह आम इंसानो के बीच में गॉव,चौराहा,खेत,खलिहान ,होटल आम सडकों पर नज़र आएंगे और उस बीच उन से कोई भी बात कर सकेगा और मिल सकेगा। बता दें की उप्र के २०१७ में होने वाले विधानसभा चुनाव में एआईएम अपने नुमाईंदों को चुनावी मैदान में उतारेगी। उसी चुनावी मैदान को मज़बूत बनाने के लिए असदुद्दीन ओवैसी ऐसा करेंगे। इस बात को लेकर सिद्धार्थनगर अतराफ़ के मीम कार्यकर्तावों में काफी उत्त्साह पाया जा रहा है और यह भी चर्चा है की उनके इस कारनामे से दूसरी सियासी पार्टियां घबराई हुयी हैं।

इस संबंध में सूत्रों के अनुसार ओवैसी फरवरी में पूर्वी उत्तर प्रदेश के दौरे पर निकलेंगे। लेकिन उनके दौरे में सबसे बड़ी रुकावट यूपी सरकार है। मुमकिन है कि वह ओवैसी को पूर्वी उत्तर प्रदेश में सियासी प्रोग्राम की इजाजत न दे। ऐसे में वह गैरसियासी अंदाज में चल कर पार्टी को मजबूत करने का प्लान कर चुके हैं।
सूत्रों के अनुसार ओवैसी गोरखपुर को सेंटर बना कर रणनीति पर अमल करेंगे। मिसाल के तौर पर वह सिद्धार्थनगर के किसी वर्कर के घर गैर सियासी प्रोग्रेाम के तहत गोरखपुर से रवाना होंगे। इस दौरान वह रास्ते में कई ढाबों पर चाय, नाश्ते के लिए रुकेंगे।

पार्टी वर्कर खामोशी से इसका प्रचार पहले ही कर चुके होंगे। इस तरह ओवैसी के ढाबे पर पहुंचने के वक्त वहां तमाम लोग जमा हो जायेंगे और वह चाय नाश्ते के दौरान बातचीत में एमिम का मैसेज देकर आगे बढ़ जायेंगे।

सूत्रों का यह भी कहना है की उनकी यह रण्रनीति पूर्वी उत्तर प्रदेश के हर जिले में अपनाई जायेगी। सूत्रों का कहना है कि यूपी सरकार उनकी सियासी सक्रियता पर भले रोक लगा दे, मगर निजी यात्रा पर प्रतिबंध नहीं लगा सकती है। इसलिए यह रणनीति बनाई जा रही है। उन्हें इसमें कितनी कामयाबी मिलेगी, यह देखना दिलचस्प होगा।

इस बारे में पूर्वांचल प्रभारी हाजी अली अहमद का कहना है कि चेयरमैन ओवैसी की यह रणनीति पूरी तरह कारगर रहेगी। सपा सरकार आवैसी साहब को यूपी में सियासी गतिविधि नहीं चलाने दे रही है।
अहमद के अलावा भी पार्टी सूत्रों का कहना है कि सपा कानूनी तौर पर उनकी निजी यात्राओं को रोक नहीं पायेगी। इसलिए इस रणनीति पर अमल किया जायेगा। उन्होंने बताया कि जनवरी के आखिरी सप्ताह में उनके दौरे का पूरा नक्शा बन कर तैयार हो जायेगा।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *