जेएनयू : बीजेपी की युवा विंग एबीवीपी ने जलाया मनुस्मृति,कहा यह महिला,दलित विरोधी है

jnu-manusmriti

नई दिल्ली। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के मौके पर मंगलवार की रात बीजेपी की स्टूडेंट विंग अखिल भारतीय विद्यार्थी परिसद (एबीवीपी) के सदस्यों ने जेएनयू के साबरमती ढाबे पर मनुस्मृति की प्रतियां जलाई। एबीवीपी कार्यकर्ताओं का कहना है कि मनुस्मृति महिला और दलित विरोधी है। मनुस्मृति दहन करने वाले छात्रों में कन्हैया विवाद के समय एबीवीपी से इस्तीफा देने वाले तीन छात्र भी शामिल थे।

प्रशासन ने नहीं दी थी कार्यक्रम की इजाजत .. इस कार्यक्रम का आयोजन एबीवीपी से इस्तीफा देने वाले तीन छात्रों और वर्तमान में एबीवीपी के दो सदस्यों ने आइसा और एनएसयूआई के साथ मिलकर किया था। विश्वविद्यालय के अधिकारियों ने बताया कि उन्होंने आयोजन की अनुमति नहीं दी थी और सुरक्षा अधिकारियों को इसकी जानकारी दे दी गई थी। एक अधिकारी ने कहा कि हमने आयोजन की अनुमति नहीं दी थी लेकिन छात्रों ने लिखित में जवाब दिया था कि वे फिर भी आयोजन करेंगे। हमने कार्यक्रम की वीडियोग्राफी कराई है।

एबीवीपी में कार्यक्रम को लेकर नहीं थी सहमति। नेश्नल दस्तक के मुताबिक एबीवीपी जेएनयू इकाई के उपाध्यक्ष जतिन गोरई ने कहा कि हमने संगठन की बैठक में सुझाव दिया था कि मनुस्मृति की प्रति जलाई जाए ताकि सभी वामपंथी दलों के इस आरोप का जवाब दिया जा सके कि एबीवीपी दलितों के हितों को लेकर संवेदनशील नहीं है। लेकिन सहमति नहीं बनी और पार्टी ने हमारी अनदेखी की। उन्होंने कहा कि लेकिन मेरे विवेक ने कहा कि मुझे ऐसा करना चाहिए। यह राजनीतिक नहीं महिला दिवस के मौके पर किया गया सामाजिक काम है। उन्होंने कहा कि इस पुस्तक में महिलाओं को लेकर अत्यंत अपमानजनक बातें हैं।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *