PM पर AAP’ का नया आरोप डिग्री तो सच में निकला फ़र्ज़ी किसी और ‘नरेंद्र मोदी’ ने ली थी 1978 में डीयू से डिग्री

modi

नई दिल्‍ली: आम आदमी पार्टी (आप) ने दावा किया है कि उसके पास ऐसे नए डाक्यूमेंट हैं जिससे साबित किया जा सकता है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दिल्ली यूनिवर्सिटी (डीयू) से स्नातक डिग्री हासिल करने के बारे में झूठी जानकारी दी है और हाल ही में समाचार पत्रों में प्रकाशित डिग्री फर्जी है। ‘आप’ के इस आरोप पर प्रतिक्रिया देते हुए बीजेपी ने कहा है कि आरोप इतना मूर्खतापूर्ण है कि इस पर कुछ भी कहना उचित नहीं होगा।

डीयू से इस बारे में आग्रह कर चुके हैं केजरीवाल एनडीटीवी न्यूज़ के अनुसार। .गौरतलब है कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को दिल्ली विश्वविद्यालय (डीयू)से आग्रह किया था कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की डिग्री को लोगों के लिए वेबसाइट पर सार्वजनिक करे और यह सुनिश्चित करे कि डिग्री के दस्तावेज सुरक्षित हैं। उन्होंने इस संबंध में यूनिवर्सिटी को पत्र भी लिखा था।आम आदमी पार्टी का आरोप है कि वास्‍तव में ऐसे कोई डाक्‍यूमेंट ही नहीं हैं कि ‘नरेंद्र दामोदर मोदी’ ने 1978 में यूनिवर्सिटी से डिग्री हासिल की। पीएम ने इस बारे में जानकारी वर्ष 2014 के चुनाव के अपने हलफनामे में दी है।

‘आप’ के मुताबिक, कुछ अखबारों में प्रकाशित डिग्री सर्टिफिकेट फर्जी है।

modi-du-degree_650x400_61462521569 narendra-modi-alwar_650x937_81462521692

आप’ का दावा, उस दिन ‘नरेंद्र महावीर मोदी’ ने ली थी डिग्री
‘आप’ का कहना है कि उसने पीएम मोदी की ओर से दी गई ग्रेजुएशन की तारीख वाले दिन ‘नरेंद्र महावीर मोदी’ के ग्रेजुएट होने की जानकारी हासिल की है। आप के अनुसार, यह ‘नरेंद्र महावीर मोदी’ राजस्थान के अलवर से हैं जबकि पार्टी ने स्‍कूल सर्टिफिकेट के कहा है कि पीएम मोदी गुजरात के बड़नगर से हैं।

आप का दावा है कि ‘नरेंद्र महावीर मोदी’ नाम के शख्स ने 1978 में डीयू से ग्रेजुएट डिग्री ली।

पीएमओ ने आरोपों पर नहीं दी कोई प्रतिक्रिया
प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने ‘आप’ और अरविंद केजरीवाल के इस आरोप पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी है। गौरतलब है कि वर्ष 2014 के आम चुनाव के पहले मोदी ने अपने हलफनामे में 1978 में डीयू से ग्रेजुएशन और 1983 में गुजरात यूनिवर्सिटी से पोस्‍ट ग्रेजुएट डिग्री हासिल करने की जानकारी दी थी। वैसे एक 15 साल पुराने इंटरव्‍यू में मोदी ने कहा था कि उन्‍होंने 17 वर्ष की उम्र में घर छोड़ दिया था और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के अपने मार्गदर्शक की प्रेरणा के बाद डिग्री हासिल की थी।

आरटीआई के जरिये पीएम मोदी की डिग्री की जानकारी देने संबंधी केजरीवाल की मांग पर केंद्रीय सूचना आयोग (सीआईसी) ने पिछले सप्ताह दिल्ली यूनिवर्सिटी और गुजरात यूनिवर्सिटी को इस बारे में विवरण जारी करने का निर्देश दिया था। इसके जवाब में गुजरात यूनिवर्सिटी ने कहा है कि पीएम मोदी ने अपनी मास्‍टर डिग्री 62.3 फीसदी अंकों के साथ हासिल की थी जबकि दिल्‍ली यूनिवर्सिटी की ओर से इस बारे में जानकारी आना बाकी है।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *