तालीम के साथ तहज़ीब व तकनीक का हुनर जरूरी – डॉ तरीन

rajisthaan

जोधपुर ( सदा ए भारत डेस्क ) हमें वक्त की रफ्तार को समझते हुए अपने लड़के-लड़कियों को तालीम के साथ-साथ तहज़ीब व तकनीक के वे सब हुनर भी सीखाने होंगे। जिनसे वो खुद को आत्मविश्वास से लबरेज करके, तकनीक के इस युग में अपने क्षेत्र में कामयाबी हासिल कर सकें। ये कहना है अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से शिक्षा प्राप्त शिक्षाविद् एवं सऊदी अरब के प्रसिद्ध उद्यमी डॉ नदीम तरीन का।
वे मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी जोधपुर में चल रहे ‘40 दिवसीय पर्सनलिटी डेवलपमेन्ट और पब्लिक स्पीकिंग‘ वर्कशॉप के समापन के अवसर पर गुरूवार शाम आयोजित ‘तालीमी बेदारी कांफ्रेंस‘ व कन्वोकेशन में बतौर मुख्य वक्ता बोल रहे थे। उन्होंने मारवाड़ मुस्लिम एज्यूकेशनल एण्ड वेलफेयर सोसायटी की सभी शैक्षिक एवं कल्याणकारी संस्थाओं एवं मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी के चौखा गांव स्थित भवन का अवलोकन कर, एक ही संस्थान में इतने बहुआयामी कार्यो को मुल्क के लिए एक आदर्श एवं प्रेरणादायी बताया।
वर्कशॉप के ट्रेनर और हैदराबाद इंग्लिश हाउस के निदेशक मुनवर जमा ने बताया कि इस 40 दिवसीय वर्कशॉप में मारवाड़ मुस्लिम एज्यूकेशन एण्ड वेलफेयर सोसायटी के अधीन संचालित समस्त शैक्षिक संस्थाओं के 600 छात्र-छात्राओं और शहर भर के कई स्टूडेन्ट्स ने भाग लिया। इन्हीं में से कुछ चयनित छात्र-छात्रओं ने अंग्रेजी भाषा में महात्माओं के फेमस कोट्स, फ्रेज़ेर्स, पब्लिक स्पीकिंग स्किल्स और अर्थपूर्ण नाटकों का प्रदर्शन किया गया। जिसमें माई खदिजा इंस्टीट्यूट ऑफ नर्सिंग साइन्सेज के स्टूडेन्ट्स ने ‘स्वच्छ भारत अभियान‘ शीर्षक के नाटक से भारत घुमने आये एक विदेशी, जिसे डेंगू हो जाता है, उसे इंग्लिश में बात करके, भारत की मेहमान नवाजी और स्वच्छता का पैगाम दिया। जिसे खूब पसंद किया गया।
बतौर विशिष्ट अतिथि एसोसियेशन ऑफ इण्डियन यूनिवर्सिटी नई दिल्ली के महासचिव एवं राजस्थान विश्वविद्यालय के पूर्व कुलपति एवं केन्द्रीय विश्वविद्यालय हिमाचल प्रदेश के संस्थापक कुलपति डॉ. फुरकान कमर ने कहा कि मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी और इंग्लिश हाउस की सहभागिता से छात्र-छात्राओं में आत्मविश्वास और पब्लिक स्पीकिंग स्किल्स का ये जो नवाचार समाने आया ये सराहनीय है। ऐसे ही अन्य नवाचारांं और रचनात्मक कार्यो के लिए एसोसियेशन ऑफ इण्डियन यूनिवर्सिटी, हमेशा मौलाना आजाद यूनिवर्सिटी की हर सम्भव सहायता के लिए तैयार रहेगी। इन्टीगर्ल यूनिवर्सिटी लखनऊ के वाइस चांसलर डॉ. एस, डब्ल्यू. अख्तर ने विद्यार्थियों के सर्वांगीण विकास के लिए ‘सांस्कृतिक आदान-प्रदान‘ कार्यक्रम के तहत यूनिवर्सिटी की छात्र-छात्राओं को इन्टिगर्ल यूनिवर्सिटी आने का न्यौता दिया।
समारोह में इमाम मुहम्मद बिन सउद यूनिवर्सिटी रियाद के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ, जिल्लुर रहमान, आन्ध्रप्रदेश के समाजसेवी के रहमतुल्लाह, भारत मेटालिक यार्न महाराष्ट्र के सीईओ महफूज जरीवाला, शाहीन अकादमी, बिदर कर्नाटका के चेयरमैन डॉ. एम. ए. कादीर, शादान ग्रुप ऑफ मेडिकल कॉलेज हैदराबाद के एडवाइजर डॉ. एम.ए. रफीक, के.एस.ए. के हम्मद बशीर सागर सहित देश व विदेश से आये कई शिक्षाविद्, प्रबुद्धजन, वरिष्ठ पत्रकार एवं समाजसेवियों एवं मारवाड़ मुस्लिम एज्यूकेशनल एण्ड वेलफेयर सोसायटी के अध्यक्ष अब्दुल अजीज, उपाध्यक्ष नजीर खां, कोषाध्यक्ष हाजी इस्हाक खां, वरिष्ठ सदस्य शौकत अंसारी, गुलाम रब्बानी, शब्बीर अहमद खिलजी, अबादुल्लाह कुरैशी, फजलुर्रहमान, हनीफ लोहानी, मोहम्मद ईस्माइल, रऊफ अंसारी, फिरोज काजी, जकी अहमद, मोहम्मद साबिर, मोहम्मद अमीन एवं यूनिवर्सिटी के रजिट्रार डॉ. इरामन खान पठान, डिप्टी रजिस्ट्रार मोहम्मद रफीक खान, सहित समस्त सदस्यों, शिक्षकों एवं छात्र-छात्राओं ने शिर्कत की।
अंत में वेब डेवलर सद्दाम, जकी, बुरहान व जीशान द्वारा निर्मित इंग्लिस हाउस की ऑफिशियल वेबसाइट का उद्घाटन किया गया। श्रेष्ठ प्रतिभागियों को पुरस्कृत भी किया। यूनिवर्सिटी के प्रेसिडेन्ट (वाइस चान्सलर) पद्म श्री प्रोफेसर अख्तरूल वासे ने देश के विभिन्न राज्यों से आये लोगों का शुक्रिया अदा किया। संचालन मशहूर उद्घोषक जफर खान सिंधी ने किया।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *