मोदी सरकार के लिए एक और शर्मनाक घटना,कश्मीर में मुस्लिम सैनिक अब्‍बास को मदद न मिलने पर माँ के शव को कंधे पर घर लेजाना पड़ा

नई दिली ( एस.बी.डेस्क ) कश्‍मीर में हिमस्‍खलन के चलते हालात काफी खराब हैं। गुरुवार को कश्‍मीर के एक युवा सैनिक ने अपनी मां की लाश को कंधे पर लादकर गांव की तरफ बढ़ना शुरू किया है। एनडीटीवी रिपोर्ट के अनुसार, सैनिक के साथ उसके कुछ रिश्‍तेदार हैं जो एलओसी के नजदीक स्थित गांव जा रहे हैं। हालांकि अपने घर पहुंचकर मां को वहां दफनाने के लिए, मोहम्‍मद अब्‍बास नाम के इस सैनिक को उस रास्‍ते से गुजरना होगा जहां पिछले कुछ दिनों से भारी बर्फबारी हो रही है। करीब 50 किलोमीटर की ट्रेकिंग में कम से कम 10 घंटों का समय लगेगा। जिस प्रमुख हाइवे का इस्‍तेमाल वह कर रहे हैं, वह करीब 6 फीट की बर्फ में घिरा हुआ है। इससे थोड़ी ही दूरी पर हिमस्‍खलन के चलते हाल के दिनों में करीब 20 सैनिकों की मौत हो चुकी है। कश्‍मीर घाटी के कुछ हिस्‍सों में बिजली और संचार लाइनें बहाल कर दी गई हैं, मगर ज्‍यादातर एरियाज में अभी भी समस्‍या बनी हुई है।
25 साल के अब्‍बास पठानकोट में तैनात हैं। उनकी मां, सकीना बेगम उनके साथ ही रहती थीं, जिनका पांच दिन पहले इंतकाल हो गया था। जवान का कहना है कि उनकी लाश के साथ कश्‍मीर लौटने पर, उससे वायदा किया गया था कि स्‍थानीय प्रशासन द्वारा हेलिकॉप्‍टर का बंदोबस्‍त किया जाएगा। अब्‍बास ने एनडीटीवी से कहा, ”यह बेहद शर्मिंदगी भरा है। मैं अपनी मां को ढंग से दफन भी नहीं कर पा रहा हूं। प्रशासन हमें लाश के साथ इंतजार कराता रहा लेकिन कभी हेलिकॉप्‍टर नहीं भेजा। यह एक खतरनाक ट्रेक है। हम मेरी मां की लाश के साथ बर्फ से जूझ रहे हैं। हम जिस रास्‍ते से गुजर रहे हैं, वहां हिमस्‍खलन का खतरा ज्‍यादा है।”
कुपवाड़ा जिले के अधिकारियों का कहना है कि उन्‍होंने गुरुवार को हेलिकॉप्‍टर का इंतजाम किया था। एक अधिकारी ने कहा, ”हमने एक चॉपर का इंतजाम किया था, लेकिन परिवार ने सुविधा लेने से इनकार कर दिया कि उन्‍हें मौसम की समझ नहीं है और पता नहीं कि हेलिकॉप्‍टर उड़ान भर पाएगा या नहीं।”
हालांकि जवान ने सरकार के दावों से इनकार कर दिया। अब्‍बास ने कहा, ”हम चार दिन तक सरकार की मदद का इंतजार किया। इस सुबह, कुपवाड़ा में अधिकारियों ने हमारा फोन तक उठाना बंद कर दिया।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *