एक बार फिर मेरठ में टूटी हुई मूर्ति मिलने के बाद भड़का सांप्रदायिक तनाव, तोड़फोड़, फायरिंग, कई घायल

मेरठ ( एस.बी.टीम ) एक बार फिर दंगायिवों ने उत्तर प्रदेश के मेरठ जिले के एक ग्रामीण क्षेत्र में धार्मिक स्थल दो समुदाय के बीच दंगा भड़काने की कोशिश के बतया जा रहा है ग्रामीण छेत्र में मूर्ति टूटी मिलने पर तनाव पैदा हो गया। दो समुदायों के बीच जैम कर पथराव और फायरिंग भी हुयी जिस में तीन लोग घायल हो गए।

तनाव के मद्देनजर क्षेत्र में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किया गया है। पुलिस सूत्रों के अनुसार भावन पुर में गढ़ रोड स्थित गोकुलपुर के शिव मंदिर में एक मूर्ति टूटी मिलने के बाद दोनों समुदाय के लोग आमने सामने आ गए और पथराव और फायरिंग से दहशत फैल गया।

स्थिति उस समय बिगड़ गयी जब गुस्साए लोगों ने गढ़ रोड पर हंगामा करते हुए जाम लगा दिया और पंक्ति में खड़ी कारों में तोड़फोड़ कर दी। इस दौरान पुलिस के साथ भी दुर्व्यवहार किया गया। पुलिस ने किसी तरह जाम हटाया। बाद में मेडिकल कॉलेज अस्पताल की इमरजेंसी में भी हंगामा हुआ। एहतियात के तौर पर गांव में भारी पुलिस बल तैनात कर दी गई है। पुलिस सूत्रों ने बताया कि शिव मंदिर की व्यवस्था पुजारी राजाराम देखते हैं।

बताया गया है कि मंदिर में पूजा करने पहुंचे लोगों ने टूटी हुई मूर्ति देखकर पुजारी राजाराम को सूचना दी। इसकी सूचना पूरे गांव में आग की तरह फैल गई और बड़ी संख्या में लोग मंदिर में जमा हो गए। घटना से गुस्साए लोग पुलिस और प्रशासन के खिलाफ नारेबाजी करने लगे। इसी दौरान कंट्रोल रूम को सूचना दे दी गई जिस पर पुलिस बल मौके पर पहुंच गई।

घटना के खिलाफ हिंदू स्वाभिमान संस्था और बजरंग दल के कार्यकर्ता भी मौके पर पहुंच गए। इसी दौरान ग्रामीणों ने हंगामा शुरू कर दिया और मूर्ति तोड़ने का आरोप गांव के अल्पसंख्यक समुदाय पर लगाया और नारेबाजी करने लगे जिससे गांव में सांप्रदायिक तनाव बढ़ गई। पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों ने दूसरी मूर्ति मंगा कर मंदिर में स्थापित करा दी जिसके बाद लोग शांत हुए। मंदिर के पुजारी की तहरीर पर अज्ञात लोगों के खिलाफ धार्मिक भावनाओं को भड़काने, दान पात्र चोरी करने और पूजा के स्थान को नुकसान पहुँचाने का पुलिस ने मुकदमा भी दर्ज कर लिया है।

पुलिस ने बताया कि शहर से लगभग 25 विहिप कार्यकर्ताओं मोटरसाईकलों पर सवार होकर गोकुल पुर पहुंच गए और उन्होंने नारेबाजी शुरू कर दी और कुछ ही दूर स्थित एक मस्जिद के पास सड़क पर आ गए।

शुक्रवार की रात प्रार्थना करके अल्पसंख्यक समुदाय के लोग बाहर आ गए और दोनों समुदायों के लोगों में मारपीट शुरू हो गई और पथराव और फायरिंग भी की गई जिससे भगदड़ मच गई।

विहिप के उग्र कार्यकर्ताओं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के साथ भी हाथापाई हुई जिसके विरोध में कार्यकर्ताओं ने राधा गोविंद कॉलेज के सामने गढ़ रोड पर जाम लगा दिया और वाहनों में तोड़फोड़ की। पुलिस ने किसी तरह समझाकर विहिप कार्यकर्ताओं को हटाकर जाम खुलवाया। इसके बाद घायलों को अस्पताल में भर्ती करने विहिप (विहिप) के कार्यकर्ताओं ने हंगामा कर दिया।

भारी पुलिस बल लगाकर विहिप कार्यकर्ताओं को काबू में करके घायलों का इलाज किया गया। तनाव को देखते हुए गोकुल पुर और मेडिकल कॉलेज में भारी पुलिस बल तैनात कर दी गई है।

इस मामले में मेरठ क्षेत्र के अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक आनंद कुमार ने आज बताया कि शुरू में स्थिति को काबू में कर लिया गया था और दूसरी मूर्ति स्थापित करा दी गई थी। बाद में विहिप कार्यकर्ताओं ने गांव में पहुंचकर हंगामा कर दिया जिस पर फिर विवाद पैदा हो गया। उन्होंने बताया कि हालात के मद्देनजर क्षेत्र में भारी पुलिस बल तैनात कर दी गई है। उन्होंने यह भी बताया कि वीडियो फुटेज देखकर मामला दर्ज किया गया है।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *