शिवराज अनशन : कांग्रेस ने बताया केजरीवाल स्टाइल नौटंकी तो माकपा ने कहा करें गली में क़त्ल बैठ चौराहे पर रोएँ

भोपाल ( एस.बी.डेस्क ) मध्यप्रदेश में किसानों की समस्याओं पर चर्चा के लिए मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान द्वारा भेल के दशहरा मैदान से सरकार चलाने की घोषणा पर विपक्ष ने उन पर भरपूर हमला किया है। कांग्रेस ने जहां इसे केजरीवाल स्टाइल नौटंकी बताया है तो माकपा ने कहा गली में क़तल बैठ चौराहे पर रोएँ जैसा बताया है। राज्य में किसान पहली जून से कर्ज माफी और फसल उचित दाम की मांग को लेकर आंदोलन कर रहे हैं।

इस दौरान मंदसौर में पुलिस फायरिंग में छह किसानों की मौत हो चुकी है। राज्य के अन्य भागों में भी किसान हिंसक विरोध और प्रदर्शन कर रहे हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने दशहरा मैदान में किसान और सार्वजनिक चर्चा के उद्देश्य से सरकार चलाने और शांति बहाली के लिए अनिश्चित अनशन करने का शुक्रवार को घोषणा की थी।

विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह ने कहा कि राज्य में किसान अपनी मांगों को लेकर सड़कों पर हैं। इन समस्याओं को हल करने की बजाय एक संवैधानिक पद पर बैठे मुख्यमंत्री नौटंकी पर उतर आए हैं। केजरीवाल स्टाइल इस नौटंकी में चौहान एक बार फिर करोड़ों रुपये खर्च करेंगे।

उन्होंने सवाल किया कि यह अनिश्चित अनशन किसके खिलाफ है, उसकी अपनी सरकार या जनता के। वह केजरीवाल शैली इस नौटंकी में अपनी ब्रांडिंग पर करोड़ों रुपये खर्च करने वाले हैं। तथ्य यह है कि मुख्यमंत्री एक बार फिर मूल मुद्दों से ध्यान हटाने और राज्य की जनता को गुमराह करने के सस्ते हथकंडे पर उतर आए हैं।

मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) के राज्य सचिव बादल सरोज ने कहा कि किसानों की हत्या के बाद भी उन्हें बुरा भला कहने वाली सरकार के मुख्यमंत्री के शांति बहाली के नाम पर अनशन की घोषणा एक शुद्ध राजनीतिक पाखंड है। पीड़ितों, विरोध करने वाले और शोक संतप्त परिवारों के जख्मों पर नमक छिड़कने है। यह तो ठीक वैसा ही है कि करें गली में क़त्ल और बैठ चौराहे पर रोएँ।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *