पश्चिम बंगाल : आरएसएस समर्थक संघठन विजय दश्मी पर शास्त्र प्रदर्शन के साथ निकलेगा जुलूस

कोलकाता ( एस.बी.डेस्क ) आरएसएस, भाजपा और अन्य हिंदुत्व संगठनों द्वारा पश्चिम बंगाल में राम नाओमी महोत्सव बड़े पैमाने पर मनाने के बाद अब विजय दश्मी के अवसर पर ” शास्त्री पूजा बड़े पैमाने पर मानाने का फैसला किया है। सूत्रों के अनुसार राम नाओमी की तरह इस अवसर पर भी बड़े पैमाने पर हथियारों की प्रदर्शनी की जाएगी और इस तरह त्योहार राज्य के विभिन्न क्षेत्रों में आयोजित किया जाएगा।

इसी साल 5 अप्रैल राम नाओमी के अवसर पर आरएसएस और उसके समर्थक दलों ने बड़े पैमाने पर राम नाओमी उत्सव का आयोजन किया था जिस में युवाओं ने भाग लिया और उनके हाथों में हथियार थे। मुख्यमंत्री ममता बनर्जी निवास के पास भवानी पुर में भी इस तरह की रैली का आयोजन किया गया था।

गौरतलब है कि विजय दश्मी एक दिन बाद एक अक्टूबर को योमे आशूरा है जो मुसलमानों के शिया समुदाय और सुन्नियों का एक तबका लामबंद है पश्चिमी बंगाल, उड़ीसा, सिक्किम और अंडमान के वश्व हिंदू परिषद शाखा के आयोजक सचिव सचन्दरा नाथ ने कहा कि अगर ममता बनर्जी ने हमें रोकने की कोशिश की तो हम कानून का सहारा लेंगे।

उन्होंने कहा कि हम यह देखेंगे ममता बनर्जी की सरकार हिन्दुओं को विजय दश्मी मनाने से रोकती है। उन्होंने कहा कि हथीयार प्रदर्शित अवैध नहीं है। लाइसेंस वाले हथियारों का हम प्रदर्शन करेंगे और कोई नहीं रोक सकता आर आरएसएस और विहिप इस त्योहार को अन्य राज्यों में बहुत ही व्यवस्था से मनाती है। शाशतर पूजा के दौरान विश्व हिंदू परिषद और बजरंग दल कई अवसरों पर विवाद पैदा कर चुकी है। बंगाल में शास्त्री पूजा बहुत ही व्यवस्था में नहीं मनाया जाता है। बनगाली समुदाय विजय दश्मी को ‘सिंदूर खेला के रूप में मनाती है जो विवाहित महिला हमेशा सुहागन रहने की दुआ दी जाती है .हालांकि हिंदी भाषी क्षेत्र जिस में आसनसोल, दुर्गा पुर, बर्न जयपुर शामिल हैं लाठी के साथ इस त्योहार को मनाया जाता है।

राज्य के अतिरिक्त डायरेक्टर जनरल लॉयनॉर्डेर अनुज शर्मा ने कहा कि हमने इस संबंध में कोई सूचना नहीं है लेकिन इस तरह के कार्यक्रम के आयोजन पर विशेष निगाह रखें गे। बीतेवर्ष मुहर्रम और विजय दश्मी एक ही दिन होने की वजह से राज्य के कई क्षेत्रों में सांप्रदायिक हिंसा उत्पन्न हो गए थे। तृणमूल कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता ने कहा कि चूंकि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी अवैध हथियारों के प्रदर्शन पर कड़ी कार्रवाई की चेतावनी दे चुकी हैं इसलिए भगवा दल विवाद पैदा करके राज्य में गंगाजमनी तहज़ीब को नुकसान पहुँचाने की कोशिश करेगी लेकिन हम कामयाब नहीं होनेदेंगे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *