जो डॉ.अस्पताल में बच्चों की जान बचा रहे थे उन्ही को बली का बकरा बना रही है भाजपा सरकार

नई दिली ( एस.बी.टीम ) उतर प्रदेश के मुख्यम मंत्री योगी आदित्या नाथ के संसदयी छेत्र गोरखपुर के बीआर डी अस्पताल में बीती दिनों आक्सीजन की कमी के कारण पचास से अधिक मासूम बच्चों की मौत होगई थी।

इस पूरे घटनाक्रम में उसी हॉस्पिटल में इंसेफेलाइटिस वार्ड के प्रभारी व बाल रोग विशेषज्ञ डॉ कफ़ील अहमद ने बच्चों को बचाने में अहम् भूमिका निभाई थी उन्हों ने उस समय आननफानन में कुछ गैस का भी इंतज़ाम किया था जसि से और बच्चों की जान बच गई थी इस के बाद मीडिया ने उनको मसीहा के तौर पर पेश किया था और माजूदा बीजेपी सकरार की जम कर चुतरफा किरकिरी हुयी थी ।

इस पूरे घंटना कर्म में जो बच्चे मरे थे उसकी वजह से उतरप्रदेश सरकार की सोशल मीडिया में जमकर किरिरि हुयी और इंटरनैशनल पैमाने पर उनकी नामकी की थूथू भी हुयी और अभी तक जारी है।

अब यह खबर आरही की योगी सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए डॉ.कफील को पूरे घटनाक्रम का ज़िम्मेदार ठहरा में जुटी हुयी है। कुछ सोशल मीडिया ने अपने रिपोर्ट में डॉ.कफील को ऐसे पेश किया है जैसे वह इस घटनाक्रम में विलेन का रोल अदा कर रहे थे।

ज्ञात रहे की डॉ. कफील इंसेफेलाइटिस वार्ड के प्रभारी व बाल रोग विशेषज्ञ हैं। आप को जान कर हैरानी होगी की की जिस गैस एजेंसी पर यह इल्ज़ाम लगाया जारहा है की उसकी सप्लाई की वजह से हादसा हुआ है तो उसने अब एक लेटर जारी कर सरकार की नाकामी का खुलासा किया है जिस में साफ़ साफ़ लिखा है की उसका बकाया रकम सरकार ने कई महीनों से नहीं चुकाया जबकि उसने हर तरह से सरकार को इन्फॉर्म किया था और उसने गैस देने से मना कर दिया था।

अब ऐसी सूरत में डॉ कफील जो मीडिया में मसीहा के तौर पर पेश किये जा रहे हैं तो उन्हें ही सरकार बलि का बकरा बनाने में जुट गई है ताकि अपनी नाकामी पर पर्दापोशी की जाए।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *