CBI ने सत्येंद्र जैन पर दर्ज किया मुकदमा,CBI के पास सुबूत नहीं : आप

नई दिल्ली ( एस.बी.डेस्क ) दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन के ख़िलाफ़ सीबीआई ने मुकदमा दर्ज़ किया है। सीबीआई के पास कोई ठोस सुबूत नहीं है और मनगढ़ंत आरोप लगाकर सीबीआई आम आदमी पार्टी नेता के ख़िलाफ़ काम कर रही है।

पार्टी कार्यालय में आयोजित हुई प्रैस कॉंफ्रेंस में बोलते हुए पार्टी के वरिष्ठ नेता और राष्ट्रीय प्रवक्ता आशुतोष ने कहा कि ‘सीबीआई का ध्यान सिर्फ़ इस बात पर है कि आम आदमी पार्टी के नेता और दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन को कैसे फंसाया जाए। हाल में सम्पन्न हुए बवाना उपचुनाव के बाद ही ये तमाम हथकंडे अपनाए जा रहे हैं और सरकारी एजेंसी के ज़रिए विपक्षी दलों को टारगेट किया जा रहा है

पार्टी के विधायक और मुख्य प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने कहा कि ‘सीबीआई ने सत्येंद्र जैन के ख़िलाफ़ फर्ज़ी मुकदमा दर्ज़ किया है, सीबीआई के पास कोई भी ठोस दस्तावेज़ मौजूद नहीं है और सिर्फ़ आम आदमी पार्टी और दिल्ली सरकार की छवि धूमिल करने के लिए ही सीबीआई एक राजनीतिक हथियार के तौर पर काम कर रही है। केंद्र सरकार की तमाम एजेंसियां सत्येंद्र जैन के परिवार को लगातार परेशान कर रही है

हक़ीक़त यह है कि अभी तक सीबीआई सत्येंद्र जैन के खिलाफ़ कोई सबूत नही ढूंढ पाई है, सीबीआई को सत्येंद्र जैन के घर से जो मिला उसमें 50 हजार रुपए कैश, 52 ग्राम सोना है, इसके अलावा इनकम टैक्स रिटर्न के कागज, चुनाव आयोग के कागज,हाई कोर्ट में लगाए कागज सीबीआई के अफसर अपने साथ ले गए, उनके घर रखे सरकारी फर्नीचर की लिस्ट बनाकर भी अपने साथ ले गए।

आम आदमी पार्टी सीबीआई और बीजेपी शासित केंद्र सरकार को चुनौती देती है कि AAP उम्मीदवार बनने के बाद अगर सत्येंद्र जैन ने कोई शेयर खरीदा है तो वो बताएं
सत्येंद्र जैन ने मंत्री बनने के बाद शेयर और ज़मीन की किसी भी प्रकार की कोई खरीद-फरोख्त नहीं की, सीबीआई के पास इस सम्बंध में कोई सुबूत नहीं है
मंत्री बनने के बाद जब कोई शेयर और ज़मीन ख़रीदी और बेची ही नहीं गई तो आय से अधिक सम्पत्ति का कोई मुकदमा बनता ही नहीं है, सीबीआई झूठ बोल रही है
बिना सुबूत के ही जांच एजेंसियां पत्रकारों को बुलाकर उनको फर्ज़ी खबरें देती हैं और आम आदमी पार्टी एंव दिल्ली सरकार के मंत्री को बदनाम करने की कोशिश की जा रही है।
2007 से 2011 तक सत्येंद्र जैन ने कुल 51 लाख 40 हजार के शेयर खरीदे थे जब वो आर्किटेक्ट थे। अपनी व्यक्तिगत कमाई से उन्होंने ये सब ख़रीदा था।
आम आदमी पार्टी चुनौती देती है कि अगर कोई सबूत है तो कोर्ट में चार्जशीट दाखिल करे सीबीआई

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *