स्वराज इंडिया ने भलस्वा लैंडफिल को तत्काल बंद करने की मांग की

नई दिल्ली ( एसबी टीम ) स्वराज इंडिया के स्थानीय साथियों ने भलस्वा कूड़े के पहाड़ (खत्ता) को बंद कराने का लिया संकल्प।
हाल ही में ग़ाज़ीपुर लैंडफिल साइट पर हुए दुर्घटना से 2 निर्दोष लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। इसके बाद आनन फ़ानन में दिल्ली सरकार द्वारा कुछ घोषणाएं की गई। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बयान जारी कर कहा कि ग़ाज़ीपुर व भलस्वा लैंडफिल साइट को बंद कर दिया जाएगा। इसके विपरीत आज भी भलस्वा लैंडफिल साइट पर प्रतिदिन तीन हज़ार टन कूड़े का ढेर गिराया जा रहा है।

1993 में स्थापित भलस्वा लैंडफिल साइट को 2010 तक या 22 मीटर की ऊँचाई पहुँचने के बाद बंद किया जाना था। आज इस कूड़े के ढेर की ऊँचाई पचास मीटर से भी अधिक हो चुकी है।

‌भलस्वा लैंडफिल की वर्तमान स्तिथि जानने के लिए स्वराज इंडिया की स्थानीय इकाई ने प्रदेश महासचिव नवनीत तिवारी के नेतृत्व में लैंडफिल साइट का सर्वेक्षण किया जिसके बाद कुछ चौंकाने वाले तथ्य सामने आए –

‌1. लैंडफिल साइट की ऊँचाई को कूड़े के ढेर पर सड़क बना कर अभी भी लगातार बढ़ाने की कोशिश जारी है।

‌2. लैंडफिल साइट से लगातार ज़हरीली गैस व धुवाँ निकल रहा है तथा कूड़े के ढेर में 24 घण्टे आग लगी रहता है।

भलस्वा लैंडफिल के आस पास के रिहायशी इलाके, श्रद्धानंद कॉलोनी, भलस्वा गाँव, संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर, समयपुर बादली गाँव, जहांगीरपुरी में रह रहे लगभग दस लाख लोगों का जीवन खतरे में हैं। इन इलाकों के तीन चौथाई लोग स्वास संबंधित बीमारियों से ग्रसित हैं। लैंडफिल साइट के नज़दीज स्थित भलस्वा लेक का पानी व इलाके का भूमिगत जल दूषित हो चुका है।

स्वराज इंडिया के दिल्ली प्रदेश अध्यक्ष अनुपम ने बताया कि स्थानीय लोगों की तरफ से दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री व उत्तरी दिल्ली नगर निगम की मेयर को ज्ञापन सौंप कर भलस्वा लैंडफिल साइट को तत्काल बंद कराने की मांग की गई है, जिसपर अब तक कोई कार्यवाई नहीं है।

उत्तरी दिल्ली नगर निगम व दिल्ली सरकार यदि इस गंभीर मसले पर जल्द निर्णय नहीं लेती तो आम लोगों के जीवन के लिए खतरा बन चुके भलस्वा लैंडफिल साइट को बंद करवाने हेतु स्वराज इंडिया के स्थानीय साथी कॉलोनीवासियों के साथ अनशन पर बैठेंगे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *