दलित समुदाय से होने के नाते छात्रा को स्कूल से निकाला

वाराणसी। दलित समुदाय के छात्र-छात्राअों के साथ शैक्षणिक संस्थानों में भेदभाव समाप्त होने का नाम नहीं ले रहा है। मारुफपुर स्थित के एक मान्यता प्राप्त स्कूल में छठवीं कक्षा की छात्रा के साथ भेदभाव का मामला सामने आया है। दलित होने के चलते छात्रा का नाम स्कूल से काट दिया गया। इससे पहले आरोप है कि दलित छात्रा से मिड डे मिल के लिए अलग बर्तन लाने के लिए कहा गया था। हालांकि बाद में स्कूल का माहौल खराब होने की बात कहकर उसे आने से इनकार कर दिया गया। हालांकि स्कूल के प्रधानाध्यापक ने आरोप को बेबुनियाद बताया है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, छात्रा के पिता के अनुसार दो माह पूर्व स्कूल के प्रधानाचार्य ने उनकी बेटी को एमडीएम के लिए अलग से बर्तन लाने के लिए कहा था। दस दिन पहले वह स्कूल गई तो उसे भगा दिया गया। पूछने प्रधानाचार्य ने कहा कि उसकी लड़की के स्कूल आने से माहौल खराब हो रहा है। उसको किताब, कापी उपलब्ध कराई जाएगी, लेकिन वह घर पर ही पढे़, स्कूल आने की जरूरत नहीं है। इस संबंध में उसने चाइल्ड लाइन से शिकायत की है। चाइल्ड लाइन संस्था के सदस्यों ने आकर पूछताछ की और कार्रवाई का आश्वासन दिया लेकिन छात्रा को स्कूल में नहीं लिया गया।
इस मामले पर स्कूल के प्रधानाध्यापक ने कहा कि आरोप बेबुनियाद है। छात्रा का नाम नहीं काटा गया है और न ही छात्रा को स्कूल आने से मना किया गया है। जबकि जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी भोलेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि अभी तक लिखित शिकायत नहीं मिली है।

मौखिक जानकारी के आधार पर खंड शिक्षा अधिकारी चहनियां को प्रधानाध्यापक को नोटिस जारी कर स्पष्टीकरण मांगने का निर्देश दिया गया है। साभार नेशनल दस्तक

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *