मोदी जी का FRDI कानून: नुकसान में गई बैंक तो हड़प लेगी आपके अकाउंट का सारा पैसा

नई दिल्ली ( एस.बी. टीम ) देश की नरेंद्र मोदी सरकार ने पहले नोटबंदी के नाम पर लोगों को बैंकों की लाइन में लगाया था और जनता का पैसा बैंक में जमा करा दिया था और अब मोदी जी की सरकार जनता के उसी पैसे को हड़पने की तैयारी कर चुकी है। ऐसी 38 बैंक के नाम हम आपके साथ साझा कर रहे हैं जिनका भारी मात्रा में पैसा एनपीए के तौर पर अटका है और वो बैंक नुकसान का बहाना बनाकर आपका पैसा हड़प सकती हैं।

पार्टी कार्यालय में आयोजित हुई प्रैस कॉंफ्रैंस में बोलते हुए पार्टी के राष्ट्रीय प्रवक्ता राघव चढ्ढा ने कहा कि ‘मोदी जी की सरकार ने सबसे पहले जनधन योजना चलाई फिर नोटबंदी, और फिर अपने ही अकाउंट से पैसा निकालने की सीमा तय करना और अब FRDI कानून को देश की जनता पर थोपने की तैयारी हो चुकी है। यह क्रम दर्शाता है कि मोदी जी ने कैसे जनता की जेब पर डाका डालने का प्लान तैयार किया है।‘

‘हमने प्रैस कॉफ्रेंस करके बताया था कि कैसे FRDI कानून के क्लॉज़ 52 के द्वारा बैंकों को ये छूट दी जा रही है कि वो अगर नुकसान में होंगे तो जनता के पैसे से अपने नुकसान की भरपाई कर लेंगे और जनता इसमें कुछ नहीं कर पाएगी। अगर आपका खाता रखने वाली बैंक ने मोदी जी के किसी मित्र उद्योगपति को लाखों करोड़ रुपए का लोन दे रखा है और वो उद्योगपति उसे वापस नहीं लौटा रहा है तो उस बैंक में अगर आपके खाते में 1 लाख रुपए हैं तो हो सकता है कि उस सारे पैसे को बैंक ज़ब्त कर ले और हो सकता है कि उसमें से कुछ हिस्सा ज़ब्त कर ले या फिर उसे 10-20 साल के लिए फ़िक्स डिपॉज़िट में डालकर अपने नुकसान की भरपाई करे।‘

‘हम जनता को यह बात सूचित करना चाहते हैं कि कौन-कौन सी बैंक का कितना पैसा इस प्रकार के लोन में फंसा हुआ है जिस पैसे की आने की कोई उम्मीद नहीं है और वो सारा NPA (नॉन पर्फ़ॉमिंग एसेट) है। अगर मोदी जी का यह कानून लागू हो जाता है तो ये बैंक अपने नुकसान की भरपाई करने के लिए आम जनता का पैसा हड़प लेंगी।‘

‘38 बैंक ऐसी हैं जिनका एनपीए हम आपको बता रहे हैं, अगर आपका अकाउंट इनमें से किसी बैंक में है तो समझ लीजिए कि मोदी जी का कानून लागू होने के बाद आपका पैसा रिस्क पर होगा। उन बैंक में स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया का 188,068 करोड़ रुपए, पंजाब नेशनल बैंक का 57,721 करोड़ रुपए और बैंक ऑफ़ इंडिया का 51,019 करोड़ रुपए की रकम एनपीए के तौर पर है, इनके अलावा 35 बैंक और इस लिस्ट में हैं।‘

अगर इन 38 बैकों में से किसी भी बैंक में आपका पैसा होगा तो हो सकता है कि आपका पैसा वो बैंक हड़प जाए और आपके पास कुछ भी ना बचे।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *