आफरीदी की किताब ‘इश्क और मैं’ का लोकार्पण

नई दिल्ली ( एस.बी.मोहम्मद आसिफ़ ) आई टी ओ स्थित इंस्टीट्यूट दीवान ए ग़ालिब में शायर महशर आफरीदी की किताब ‘इश्क और मैं’ का लोकार्पण किया गया। इस कार्यक्रम में मुशर्रफ आलम जौकी मुख्य अतिथि के रुप में शामिल हुए तथा इसकी अध्यक्षता सिद्दीक उर रहमान किदवाई ने की। अपने अध्यक्षीय भाषण में सिद्दीक उर रहमान क़िदवई ने ग़ालिब इंस्टिट्यूट के उद्देश्य को उजागर किया। उन्होंने इस सवाल का जवाब दिया कि आखिर कब तक हम ग़ालिब का राग अलापेंगे। उन्होंने गालिब के बारे में बारे में बताते हुए कहा, “ग़ालिब की नजर सिर्फ अपने जमाने तक महदूद नहीं थी। वह हर जमाने की बात करते थे। हर वक्त में लोग उनको पढ़ते रहे और यह मानते रहे कि ग़ालिब ने उनकी बात कही है। ग़ालिब इंस्टिट्यूट की यह जिम्मेदारी है कि वह आने वाले जमाने में आने वाले जमाने की शायरी और अदब की देखरेख करेगा। मुझे अफरीदी की आने वाली शायरियों का इंतजार रहेगगा।”

कार्यक्रम में अंजुमन तरक्की उर्दू के जमरूद मुगल भी शामिल थे। उन्होंने कहा कि शायरी बहुत मुश्किल काम है और अच्छी शायरी उससे भी ज्यादा इरफान सिद्दीकी के एक शेर से अपनी बात खत्म करते हुए उन्होंने महशर अफरीदी को बधाई दी। मुख्य अतिथि मुशर्रफ आलम जौकी ने महशर अफरीदी की किताब और उनके बारे में अपनी बात रखते हुए उन्होंने कहा, ” महशर मुशायरे के शायरों से अलग है। उनकी शायरी मुशायरा से अलग की शायरी है और यह किताब ऐसे वक्त में आई है जब हम इश्क करना भूल गए हैं । नफरत की खेती हो रही है। नफरतों ने हमें चारों तरफ से घेर लिया है।” उन्होंने अफरीदी साहब की शख्सियत के बारे में बताते हुए कहा, “हर किसी शायर पर किसी दूसरे शायर किसी बड़े शायर का असर होता है लेकिन महशर पर किसी शायर का असर नहीं है। वह अपनी बात कहते हैं। मुझे खुशी होगी अगर हम महशर की किताब को अपने साथ लेकर घर जाएं।” अपनी बात के अंत में उन्होंने महशर अफरीदी के कुछ शेर पढ़कर सुनाएं ।

इस खुशनुमा मौके पर शकील जमाली अजीम बुक डिपो के प्रोप्राइटर अब्दुर्रहमान सैफ, अकील नोमानी, एजाज अंसारी, राशिदा बाकी हया, मीनाक्षी जिजीविषा, शकील जमाली, डॉ रहमान मुसव्विर, अजहर इकबाल, नदीम काविष मौजूद थे। इन सभी शायरों ने अपनी शायरी के जरिए आज के वक्त में मौजूद तमाम तरह विडंबनाओं और विषमताओं पर अपने शेर कहे। कार्यक्रम का अंत बहुत मुशायरे के साथ हुआ। इसका संचालन मोइन शादाब ने किया।

Facebook Comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *