धर्म

 

मस्जिदे नबवी में इस साल 13 हजार 575 रोज़ेदार ने एतेकाफ़ में बैठे का शरफ़ हासिल किया : सुभान अल्लाह

इस्लाम का सबक़ अख़लाक़ है प्यार है न्याय है

हिन्दू,मुस्लिम में नफरत फ़ैलाने वालों के लिए कानपुर की गीता शर्मा अनोखी मिसाल,पाबन्दी से रखती हैं रोज़ा और पढ़ती नमाज़

जब मोहम्मद ( सल्ल.) ने फ़रमाया मुझे दया करने के लिए भेजा गया है लानत करने के लिए नहीं

गुजरात में हिन्दू महिला मुसलमानों से भाईचारा क़ायम करने के लिए 34 सालों से रख रही है रोज़ा

मोदी के गुजरात में हज़रात ईसा मसीह को एक किताब में बताया गया हैवान

यह ईसाई शख्स 14 सालों से मुसलमानों को सहरी में जगा रहे हैं : इनके जज़्बे को करें सलाम

अमीर हो या ग़रीब एक न एक दिन सब को यहीं जाना है : एक बार ज़रूर पढ़े….(वसीयत और नसीहत)

एक खातून थी जिनके वालिद भी नबी ,शौहर भी नबी ,ससुर भी नबी,देवर भी नबी : सुबहान अल्लाह

दुनिया के इस महान बॉक्सर के पास सब कुछ था, लेकिन सुकून नहीं इसलिए अपनाया इस्लाम